अहोई अष्टमी पर कैसे करें पूजा- मदन गुप्ता सपाटू
कार्तिक कृष्ण पक्ष की अष्टमी पर पड़ने वाली अहोई माता का व्रत शनिवार को आ रहा है। शनिवार की दोपहर एक बज कर 11 मिनट पर सप्तमी समाप्त हो जाएगी तथा अष्टमी लग जाएगी जो रविवार की दोपहर 12 बजकर 29 मिनट तक रहेगी।

जहां करवा चौथ का व्रत पति की दीर्घायु के लिए रखा जाता है वहीं अहोई अष्टमी का व्रत संतान की सुरक्षा व लंबी आयु के उदेश्य से रखा जाता है। उल्लेखनीय है कि दोनों व्रत ही निर्जल रखे जाते हैं और चंद्र दर्शन के बाद ही खोले जाते हैं।
पारंपरिक कथानुसार एक महिला द्वारा मिटट्ी खोदते समय अनजाने में सेही के बच्चे मारे गए थे । इसका पश्चाताप करने और जीव जंतुओं व वन्य प्राणियों विशेषः तौर पर गाय माता कीे सेवा , अहिंसा व दया भाव दिखाने का संकल्प करने के लिए इस व्रत का विधान रखा गया है। इस व्रत से यह संदेश भी जाता है कि हर कार्य बहुत सतर्कता व हर प्रकार के निरीक्षण , परीक्षण सोच विचार करने के बाद ही करना चाहिए ताकि जल्दबाजी में किसी की हानि , जाने - अनजाने भी न हो। इस व्रत पालन से संतान सुख एवं बच्चों से सुख प्राप्त होने का प्रतिफल मिलता है।
व्रत कब रखें ?
    पूजा का मुहूर्त- षनिवार 
सायं - 05 बजे  से 6 बज कर 17 मिनट तक 
सितारे देखने का समय- 05 बजकर 30 मिनट पर
चंद्र दर्शन- रात्रि- 11 बजकर 06 मिनट पर 
क्या है अहोई अष्टमी ?
करवा चैथ के 4 दिन बाद और दीपावली से एक 8 पूर्व पड़ने वाला यह व्रत, पुत्रवती महिलाएं ,पुत्रों के कल्याण,दीर्घायु, सुख समृद्धि के लिए निर्जल करती हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में सायंकाल घर की दीवार पर 8 कोनों वाली एक पुतली बनाई जाती है। इसके साथ ही स्याहू माता अर्थात सेई तथा उसके बच्चों के भी चित्र बनाए जाते हैं। आप अहोई माता का कैलेंडर दीवार पर लगा सकते हैं।पूजा से पूर्व चांदी  का पैंडल  बनवा कर चित्र पर चढ़ाया जाता है और दीवाली के बाद  अहोई माता की आरती करके उतार लिया जाता है और अगले साल के लिए रख लिया जाता है। व्रत रखने वाली महिला की जितनी संतानें हों उतने मोती इसमें पिरो दिए जाते हैं। जिसके यहां नवजात षिषु हुआ हो या पुत्र का विवाह हुआ हो , उसे अहोई माता का उजमन अवष्य करना चाहिए।
विधि
एक थाली में सात जगह 4-4 पूरियां रखकर उस पर थेाड़ा थोड़ा हलवा रखें। चंद्र को अध्र्य दें । एक साड़ी ,एक ब्लाउज,व कुछ राशि इस थाली के चारों ओर घुमा के , सास या समकक्ष पद की किसी महिला को चरण छूकर उन्हें दे दें।
वर्तमान युग में जब पुत्र तथा पुत्री  में कोई भेदभाव नहीं रखा जाता , यह व्रत सभी संतानों अर्थात पुत्रियों की दीर्घायु के लिए भी रखा जाता है। 
पंजाब ,हरियाणा व हिमाचल में इसे झकरियां भी कहा जाता है।
..............................................................................
मदन गुप्ता सपाटू, 196,सैक्टर 20ए चंडीगढ, म़ो0-  98156-19620

Back

अहोई अष्टमी पर कैसे करें पूजा- मदन गुप्ता सपाटू
 

कार्तिक कृष्ण पक्ष की अष्टमी पर पड़ने वाली अहोई माता का व्रत शनिवार को आ रहा है। शनिवार की दोपहर एक बज कर 11 मिनट पर सप्तमी समाप्त हो जाएगी तथा अष्टमी लग जाएगी जो रविवार की दोपहर 12 बजकर 29 मिनट तक रहेगी।


23 अक्तूबर रविवार को करें जमकर खरीदारी
 

23 अक्तूबर, रविवार को भी खरीदारी के महायोग बन रहे हैं। इस दिन राधाष्टमी, कालाष्टमी, रविवार के दिन पुष्य योग अर्थात रवि पुष्य योग के अलावा सर्वार्थ सिद्धि योग तथा श्री वत्स योग भी पड़ रहा है।


मंत्रियों और सांसदों ने की दाती महाराज के कार्यों की सराहना
 

समारोह में पधारे तमाम मंत्रियों, सांसदों और जनप्रतिनिधि ;यों ने भी एक स्वर में दाती महाराज के इस महा- अभियान की सराहना की और इससे जु


दाती कन्या भ्रूण संरक्षण दिवस पर संतों नें किया आहवान
 

दाती कन्या भ्रूण संरक्षण दिवस पर श्री सिद्ध शक्तिपीठ शनिधाम में भव्य धार्मिक एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों ; का आयोजन भी किया गया


दाती कन्या भ्रूण संरक्षण दिवस पर धार्मिक एवं सास्कृतिक कार्यक्रमों ; का हुआ आयोजन
 

10 जुलाई 2016 की शाम समस्त चराचर जगत के लिए यादगार बन गई। इस शाम राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के असोला, फतेहपुर बेरी स्थित श्री सिद्ध शक्ति


संस्‍कृति मंत्रालय ने एक भारत श्रेष्‍ठ भारत पर पहली राष्‍ट्रीय स्‍तर कार्यशाला का आयोजन किया।
 

देश के नागरिकों में राष्‍ट्रवाद ; और सांस्‍कृतिक ; जागरूकता पैदा करने के लिए एक ठोस तंत्र स्‍थापित करते हुए एक भारत श्रेष्‍ठ भार&


साईं पूजा की वजह से महाराष्ट्र में पड़ रहा सूखा- शंकराचार्य
 

शारदा पीठ के शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है ।उन्होंने कहा है कि सांई बाबा एक फकीर थे। भगवान की 


मंगल दोष होने पर न घबराये उपाय से होगा उपचार घट विवाह है उत्तम और दो बार विवाह करने से मिलेगी पूर्ण शांति
 

कालयोगी आचार्य महिंदर कृष्ण शर्मा- मंगल गर्म प्रकृति का ग्रह है.इसे पाप ग्रह माना जाता है.विवाह और वैवाहिक जीवन में मंगल का अ


कैसे करे राहु और केतु को शांत
 

शनि के अनुचर हैं राहु और केतु। शरीर में इनके स्थान नियुक्त हैं। सिर राहु है तो केतु धड़। यदि आपके गले सहित ऊपर सिर तक किसी भी प्


क्या मतलब होता है आपके सपनो का
 

काल योग सेवा द्वारा कुछ शोध् के बाद सपने में कुछ भी देखने का क्या फल होता है आचार्य महिंदर कृष्ण ज़ी द्वारा अपने अनुभव और गुरुओ